25-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

बेगूसराय के तीन बहनें एक साथ बनेगी दारोगा, पीटी परीक्षा कर ली पास, गांव में खुशी का माहौल

Share This Post:

न्यूज़ डेस्क: बिहार पुलिस दारोगा भर्ती परीक्षा का पीटी रिजल्ट घोषित कर दिया गया. रिजल्ट जारी होते ही 47 हजार 900 सफल अभ्यर्थी और उसके परिवार के चेहरों पर खुशी दौड़ गयी. ऐसा ही एक परिवार बेगूसराय का है, जिस घर से एक साथ तीन-तीन बहनों ने दारोगा भर्ती का पीटी परीक्षा पास कर ली है. इस खबर से गांव के लोग खुशी के मारे झूमने लगने हैं.

पीटी परीक्षा पास करने वाली तीनों सगी बहनें हैं. ये तीनों बिहार पुलिस में कार्यरत है. पुलिस की ड्यूटी करते हुए इनलोगों ने दारोगा परीक्षा की तैयारी करती रही, और अब पीटी पास कर यह साबित कर दिया कि जुनून से जीत हासिल की जा सकती है. इनके माता पिता अपने बेटियों की इस उपलब्धियों से काफी खुश है. हालांकि अभी इन्हें दो और परीक्षा पास करने होंगे, तब जाकर ये दारोगा बन पाएंगी.

इनके परिवार के बारे में बात करे तो तीनों बहने ज्योति कुमारी, सोनी कुमारी और मुन्नी कुमारी बखरी प्रखंड के सौलना गांव की रहने वाली है और उनके पिता साधारण किसान हैं. तीनों बहनों के एक साथ दरोगा बहाली की पीटी परीक्षा पास करने से घर के साथ-साथ गांव में भी खुशी का माहौल है. किसान पिता और गृहणी मां की इन बेटियों ने एक साथ पीटी परीक्षा पास कर वाकई कमाल कर दिखाया है. बहनों ने अपने माता-पिता को मिठाई खिलाकर खुशियों को साझा किया है.

पीटी परीक्षा पास करने वाली तीनों बहनों ने अपनी इस सफलता के लिए अपने माता-पिता को श्रेय दिया है. इनकी माने तो इनके माता-पिता ही इनके असली हिरो है. इन्हीं की बदौलत इनलोगों ने इस मुकाम को हासिल किया है. घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं रहने की वजह से ट्यूशन पढ़ाकर इनलोगों ने अपनी पढ़ाई जारी रखी थी.

तीनों बहनों की हिम्मत ऐसी की पुलिस की ड्यूटी में रहने के बावजूद अपनी पढ़ाई जारी रखी और अब पुलिस अवर निरीक्षक की पीटी परीक्षा पास कर दारोगा बनने के पहले पायदान को पार कर लिया. इस उपलब्धि से घर के साथ पड़ोस के लोग भी काफी खुश हैं.

गांव वाले इन तीन बहनों की उपलब्धियों से काफी खुश है. लोग खूब प्रशंसा करते हुए कहते हैं कि अब तीनों दरोगा बनने की परीक्षा पास की है. यह गांव के लिए एक उपलब्धि है. ये सभी गांव के अन्य लड़कियों के लिए प्रेरणा बन गयी है. इनको देखकर गांव के अन्य लड़कियां भी दारोगा की तैयारी करने लगी है.