10-December-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

Success story: कम उम्र में हुई शादी, अफसरों को सैल्यूट करते पति को देखा तो रहा नहीं गया और बन गईं IPS

Share This Post:

नई दिल्ली. IPS Officer N Ambika Success Story: ‘कहते हैं न कि अगर आपके अंदर मेहनत करने का जज्बा है तो आप सबकुछ हासिल कर सकते हैं’ कुछ ऐसा ही कर दिखाया है कि एन.अंबिका ने, उनकी मेहनत का ही नतीजा है कि आज वो एक आईएएस अफसर हैं. लेकिन यहां तक पहुंचने का उनका रास्ता मुश्किलों भरा रहा है….

एन. अंबिका मूल रूप से तमिलनाडु की रहने वाली हैं. घरवालों ने उनकी शादी 14 वर्ष की ही उम्र में एक पुलिस कॉन्स्टेबल से कर दिया था. जल्दी शादी होने की वजह से वो 18 वर्ष में मां बन गईं. उनकी जिंदगी में सबकुछ सामान्‍य चल रहा था, कि एक घटना ने अंबिका को आईपीएस बनने के लिए प्रेरित किया.

दरअसल, एक बार वो अपने कॉन्स्टेबल पति के साथ गणतंत्र दिवस की पुलिस परेड देखने गई थीं. वहां पर उन्होंने अपने पति को कई ऊंची रैंक के अधिकारियों को सैल्यूट करते देखा. घर आने के बाद जब अंबिका ने इस बारे में अपने पति से पूछा तो उन्होंने बताया कि वो मेरे उच्‍च अधिकारी (आईपीएस) थे. इसके बाद पति ने आईपीएस बनने के तरीके और इस पद पर मिलने वाले सम्मान के बारे में अंबिका को पूरी जानकारी दी. यूपीएससी की पूरी जानकारी लेने के बाद अंबिका ने सिविल सर्विसेज की एग्जाम देने का फैसला किया.

शादी के बाद शुरू की पढ़ाई
कम उम्र में शादी होने की वजह से अंबिका की पढ़ाई छूट गई थी. यही कारण था कि उन्हें फिर से पढ़ाई शुरू करनी पड़ी. अपने पति से पूरी जानकारी लेने के बाद अंबिका ने अपनी रूकी हुई पढ़ाई को दोबारा शुरू कर दिया. उन्‍होंने सबसे पहले एक प्राइवेट कोचिंग की मदद से 10वीं की परीक्षा पास की. इसके बाद डिस्टेंस लर्निंग से 12वीं और ग्रेजुएशन किया. इसके बाद अंबिका ने अपनी यूपीएससी एग्जाम की तैयारी शुरू कर दी.

पति ने हरपल किया सपोर्ट
अंबिका अपने परिवार के साथ डिंडीगुल नाम के एक छोटे कस्बे में रहती थी, जहां पर यूपीएससी की तैयारी के लिए कोई कोचिंग सेंटर नहीं था. यही कारण था कि उन्होंने चेन्नई में रहकर यूपीएससी की तैयारी की. इस दौरान पति ने उन्हें हर पल सपोर्ट किया और वहां पर उनके रहने और खाने का इंतजाम किया था. अंबिका की पढ़ाई न डिस्टर्ब हो, इसलिए उन्होंने नौकरी के साथ-साथ बच्चों को भी संभाला.

3 असफलता के बाद पति ने कहा अब वापस आ जाओ
यूपीएससी की परीक्षा के लिए अंबिका ने खूब मेहनत की. हालांकि इसके बाद भी वो तीन बार इस परीक्षा में असफल रही. इससे उनके पति और परिवार वाले भी निराश हुए और उन्‍हें वापस घर लौट आने को कहा, लेकिन अंबिका ने अब भी हार नहीं मानी. अंबिका ने अपने पति से आखिरी मौका देने को कहा. इसके लिए उनके पति मान गए.

इसके बाद जब 2008 में अंबिका ने यूपीएससी का एग्जाम दिया तो उनका चयन हो गया है. अंबिका को पहली पोस्टिंग महाराष्ट्र कैडर में मिली. अंबिका अभी मुंबई में जोन-4 की डीसीपी हैं. उन्हें 2008 में ऑल इंडिया 112 रैंक मिली.