25-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

अब किसी भी ATM से बिना कार्ड के निकाल पाएंगे पैसे, RBI गवर्नर ने किया ये बड़ा ऐलान

Share This Post:
  • बिना डेबिट कार्ड के निकाल पाएंगे ATM से पैसे
  • अभी तक केवल कुछ ही बैंकों में थी ये सुविधा
  • UPI के जरिए सभी बैंकों के ATM में मिलेगी सुविधा

DESK: अगर आप एटीएम (ATM) की माध्यम से पैसे निकालते हैं, तो ये खबर आपके काम की है. अब आप बिना एटीएम कार्ड के भी पैसा निकाल पाएंगे. इसका ऐलान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das)  ने किया है. अब तक ये सुविधा केवल कुछ ही बैंकों में थी.

बिना कार्ड के निकलेंगे ATM से पैसे

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि अब बिना डेबिट कार्ड के एटीएम से पैसा निकालने की सुविधा सभी बैंकों में दी जाएगी. अभी तक सिर्फ कुछ ही बैंकों में बिना कार्ड के एटीएम से पैसे निकालने की सुविधा थी. उन्होंने बताया कि UPI के जरिए एटीएम से पैसा निकाला जा सकेगा.

कार्ड क्लोन के फ्रॉड होंगे कम

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास के मुताबिक इस कदम से कार्ड क्लोन करके पैसे निकालने के फ्रॉड भी कम होंगे. बता दें कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने शुक्रवार को मॉनिटरी पॉलिसी का ऐलान किया.

रेपो रेट में नहीं किया कोई बदलाव

गौरलतब है कि MPC ने पॉलिसी दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. रेपो रेट (Repo Rate) 4 फीसदी पर बरकरार है. ये लगातार 11वीं बार है जब केंद्रीय बैंक (Central Bank) ने ब्‍याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. इससे पहले, रिजर्व बैंक ने आखिरी बार 22 मई 2020 को रेपो रेट में बदलाव किया था.

नरम रुख में बदलाव करेगा RBI 

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के नतीजों की घोषणा करते हुए कहा कि मुद्रास्फीति को काबू में रखने के साथ आर्थिक वृद्धि को बरकरार रखने के लिए केंद्रीय बैंक अपने नरम रुख में थोड़ा बदलाव करेगा. बता दें कि रेपो दर वह दर है जिस पर रिजर्व बैंक वाणिज्यिक बैंकों को फौरी जरूरतों को पूरा करने के लिये कर्ज देता है. जबकि रिवर्स रेपो दर के तहत बैंकों को अपना पैसा रिजर्व बैंक के पास रखने पर ब्याज मिलता है. एमपीसी ने चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 7.2 प्रतिशत कर दिया है. फरवरी की मौद्रिक समीक्षा बैठक में एमपीसी ने आर्थिक वृद्धि दर 7.8 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था.