27-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

श्रीलंका के विपक्षी नेता की PM मोदी से गुहार, ‘हमारी मातृभूमि को बचा लीजिए’

Share This Post:
  • साजिथ प्रेमदासा ने PM मोदी को भेजा संदेश
  • श्रीलंका के आर्थिक संकट का दिया हवाला
  • विपक्षी नेता ने सरकार पर भी बोला हमला

DESK: आर्थिक संकट (Economic Crisis) से गुजर रहा श्रीलंका (Sri Lanka) मदद के लिए भारत (India) की ओर देख रहा है. श्रीलंका में विपक्ष के नेता साजिथ प्रेमदासा (Sajith Premadasa) ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मदद की गुहार लगाई है. उन्होंने PM मोदी से आग्रह किया है कि संकट के इस समय में श्रीलंका का साथ दें.

‘कृपया कोशिश करें…’

हमारी सहयोगी वेबसाइट WION में छपी खबर के अनुसार, विपक्षी नेता साजिथ प्रेमदासा (Sri Lanka Opposition Leader) ने PM मोदी से आग्रह करते हुए कहा, ‘कृपया कोशिश करें और श्रीलंका की यथासंभव मदद करें. यह हमारी मातृभूमि है, हमें अपनी मातृभूमि को बचाने की जरूरत है’. प्रेमदासा ने न्यूज एजेंसी ANI के हवाले से प्रधानमंत्री मोदी को यह संदेश पहुंचाया है.

मंत्रियों के इस्तीफे को बताया ड्रामा

यह पूछे जाने पर कि क्या देश चुनाव के लिए तैयार है? उन्होंने कहा, ‘मैं आपको बता सकता हूं, मैं खुद और हम सभी तब से तैयार हैं जब से हमने समाज सेवा और राजनीतिक सेवा में प्रवेश किया है. हम किसी भी घटना के लिए तैयार हैं’. ANI से बातचीत में उन्होंने कैबिनेट मंत्रियों के इस्तीफे को ड्रामा करार दिया. उन्होंने कहा कि जनता को बेवकूफ बनाने के लिए यह ड्रामा किया जा रहा है. ये लोगों को राहत देने की दिशा में कोई वास्तविक प्रयास नहीं है. ये बस उन्हें बेवकूफ बनाने की कवायद है.

लोगों के लिए पेट भरना भी मुश्किल 

श्रीलंका इस वक्त सबसे बड़े आर्थिक संकट का सामना कर रहा है. उसके पास स्ट्रीट लाइट जलाने तक के पैसे नहीं बचे हैं. देश में महंगाई आसमान पर पहुंच चुकी है. ऐसे में लोगों के लिए पेट भरना भी मुश्किल हो गया है. लोगों में सरकार के प्रति गुस्सा है. इसी को ध्यान में रखते हुए रविवार को मंत्रिमंडल के 26 सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था. बता दें कि भारत हमेशा से श्रीलंका की मदद करता रहा है और इस संकट काल में भी उसे सहायता पहुंचा रहा है.