25-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

भागलपुर के गंगा घाटों का होगा सौंदर्यीकरण, कहलगांव व बटेश्वर स्थान में खर्च होंगे 72 लाख

Share This Post:

भागलपुर। कहलगांव एवं बाबा बटेश्वर स्थान गंगा घाटों का सौंदर्यीकरण किया जाएगा। इसका रखरखाव 5 वर्षों तक होगा। इसके लिए उप विकास आयुक्त सह जिला गंगा समिति के नोडल पदाधिकारी प्रतिभा रानी ने नगर विकास एवं आवास विभाग के उप सचिव को पत्र लिखकर उन्होंने 3 करोड़ 72 लाख 94 हजार रुपये की मांग की है। जिससे कहलगांव एवं बाबा बटेश्वर स्थान गंगा घाटों का 5 वर्षों तक सौंदर्यीकरण एवं रखरखाव होगा। नगर पंचायत कहलगांव के कार्यपालक पदाधिकारी ने इसका प्रस्ताव उप विकास आयुक्त को भेजा था।

कहलगांव स्थित बटेश्वर स्थान के विकास का खाका तैयार हो चुका है। एक किमी दायरे का नक्शा भी तैयार कर लिया गया है और इसी सप्ताह पर्यटन विभाग को भेज दिया जाएगा। जिला प्रशासन द्वारा जो नक्शा बनवाया गया है, उसके मुताबिक यू प्वाइंट बनेगा। खड़े होकर लोग इस पर से प्राकृतिक नजारा देख सकेंगे।

इसके साथ ही विशेष टायलेट, पानी, चेंजिंग रूम, रेस्टोरेंट एवं कलर लाइट की व्यवस्था रहेगी। एक किमी के दायरे में पेवर ब्लाक बिछाया जाएगा। हालांकि सरकारी व निजी दोनों ही जमीन को लेकर यह प्रस्ताव किया गया है। बटेश्वर स्थान व गंगा के बीच 3 पहाड़ी पर पर्यटकीय सुविधा के लिए राज्य सरकार ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी थी।

इसको लेकर डीएम सुब्रत कुमार सेन कहलगांव के विभिन्न पर्यटन स्थल सहित केन्द्रीय विक्रमशिला विश्वविद्यालय के लिए देखी गई जमीन का जायजा लिया था। उन्होंने कहलगांव के एसडीओ को बटेश्वर स्थान और गंगा के 3 पहाड़ी पर पर्यटन के दृष्टिकोण से सुविधा को कैसे बेहतर की जाए, इसका प्रस्ताव तैयार करने का निर्देश दिया था।

बता दें कि बुधवार को एसडीओ ने नक्शा तैयार कर जिला प्रशासन को भेजा था, किंतु उसमें कुछ खामीयां होने के कारण उसे वापस लौटा दिया गया। उसके बाद पुनः नक्सा को सुधार कर जिला प्रशासन को भेजा गया है। अब इसे पर्यटन विभाग के पास भेजा जाएगा। यदि पर्यटन विभाग की मंजूरी मिलती है तो बटेश्वर स्थान का विकास होना प्रारंभ हो जाएगा। बटेश्वर स्थान एवं तीन पहाड़ी धार्मिक रूप से विकसित है और दर्शनीय स्थल भी है।