26-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

भागलपुर में गंगा स्नान के दौरान गहरे पानी मे डूबी नवविवाहित युवती; शव की तालाश में जुटी SDRF

मृतका की फाइल फोटो (बाएं) व घटना के बाद रोते-बिलखते परिजन (दाएँ)
Share This Post:

BHAGALPUR: बिहार(Bihar) के भागलपुर जिला अंतर्गत सुल्तानगंज थानां क्षेत्र के अजगैबीनाथ गंगा घाट से एक बार फिर दर्दनाक खबर सामने आई है.दरअसल अजगैबीनाथ गंगा घाट पर मंगलवार की सुबह 7 बजे उस वक़्त कोहराम मच गया.जब गहरे पानी मे जाने के कारण एक साथ तीन बहने डूबने लगी.जिसके बाद स्थानीय लोगो की पहल से गंगा नदी में डूब रही तीन बहनों में से दो को बचा लिया गया.जबकि एक बहन अत्यधिक गहरे पानी मे चले जाने के कारण वह गंगा में समा गई.स्थानीय गोताखोरों ने काफी मसक्कत की लेकिन एक बहन को नहीं ढूंढ पाए. वही घटना के ढाई घण्टे बाद एसडीआरएफ की टीम पहुँची.जिसके बाद शव की तालाश में जुट गई है.घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया है.

सुल्तानगंज थाना क्षेत्र के अजगैबीनाथ गंगा घाट में डूबी युवती की पहचान झारखंड राज्य अंतर्गत देवघर जिला के जटाई मोड़ निवासी अशोक महतो की 22 वर्षीय पुत्री खुशी कुमारी के रूप में हुई है. मिली जनाकारी के मुताबिक खुशी कुमारी की शादी बीते 22 अप्रैल को हुई थी.वह अपने तीन बहनों के साथ मंगलवार की सुबह करीब 7 बजे गंगा स्नान करने पहुंची थी.जहाँ अचानक तीनों बहन गंगा में डूबने लगी.अजगैबीनाथ गंगा घाट पर चिख-पुकार मच गई.स्थानीय लोगों ने डूबते देख दो बहनों को बचा लिया. वही एक बहन गहरे पानी में चले आने के कारण वह गंगा में समा गई.घटना के बाद मायके व ससुराल वालों का रो-रोकर बुरा हाल है.

बताते चले कि पिछले 30 दिनों के अंदर सुल्तानगंज के अजगैबीनाथ गंगा घाट पर डूबने की यह चौथी घटना है जिसमें दो युवक और दो युवती डूबी है.इसके बाद भी स्थानीय प्रशासन की नींद नहीं खुली है.विदित हो कि सुल्तानगंज गंगा घाट इन दिनों खतरनाक गंगा घाट बन गया है। जहां आए दिन डूबने की घटना हो रही है। बावजूद यहां सुरक्षा की कोई ठोस व्यवस्था नहीं की गई है।

यहां नियमित गंगा स्नान करने वालों की भीड़ होती है। श्रद्धालु दूर-दराज से आकर पवित्र उत्तर वाहिनी गंगा में स्नान कर अपने साथ गंगाजल ले वाहनों से अजगैबीनाथ धाम से बाबाधाम जाते रहते हैं। ऐसे में घटित घटना की गंभीरता को लेते हुए प्रशासन को यहां बैरिकेडिंग कराने की आवश्यकता आम नागरिक बताते हैं।