10-December-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

Bhagalpur: ओ हैलो… दांत काट लूंगी! भागलपुर में अतिक्रमण हटाने के दौरान हंगामा, पुलिस से भिड़ी युवती

Share This Post:

BHAGALPUR: खलीफाबाग चौक से स्टेशन जाने के रास्ते में स्थायी दुकानदारों द्वारा रोड पर किए गए अतिक्रमण को हटाने के दौरान बुधवार को जमकर हंगामा हुआ. इस दौरान एक युवती पुलिस से भिड़ गई. युवती निकिता का आरोप था कि वो अपनी मां के साथ शॉपिंग करने आई थी. उसके पिता की यहीं दीये की दुकान है. निगम के अधिकारी ने लात मारकर दुकान गिरा दी. वो कह भी सकते थे लेकिन ऐसा नहीं किया गया. निकिता ने पूछा कि आप कमिश्नर हैं तो उन्होंने कहा कि निगम के लोग हैं. फिर उसने आई कार्ड मांगा. इसके बाद वो वहां से चले गए. निकिता ने कहा कि एसडीएम आकर कहने लगे कि तुम हंगामा कर रही हो.

दरअसल, दीपावली, काली पूजा और छठ को लेकर शहर के कई इलाकों में जाम की समस्या बनी है. फुटपाथ पर दुकानें सज जाती हैं. गाड़ियां लगी रहती हैं जिससे आने जाने वालों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसी को लेकर लगातार अतिक्रमण हटाने का काम चल रहा है. बुधवार को भी जब वेराइटी चौक पर यह किया गया तो नगर निगम के कर्मचारियों से एक युवती की घंटों नोकझोंक हुई. लड़की ने धमकी देते हुए कहा- “छोड़ो नहीं तो दांत से काट लूंगी. ओ हैलो.. टच मत करना.”

हम चोर नहीं हैं…

यातायात डीएसपी प्रकाश कुमार, यातायात थाना प्रभारी बृजेश कुमार के अलावा दर्जनों की संख्या में पुलिस बल मौजूद रही. इस दौरान उसकी मां भी साथ थी. युवती ने कहा कि नगर निगम का आदमी दीया और दुकान गिराकर चला गया. इतने में पुलिस आ गई और कहने लगी कि आपलोग क्या कर रहे हैं. थाना चलिए. उस पर उसने कहा कि वे लोग चोर नहीं हैं. हम लोग क्यों जाएंगे. इस दौरान युवती की मां ने कहा कि अगर कोई बदतमीजी करेगा तो आवाज उठाएंगे न हमलोग या नहीं.

इस दौरान पुलिस युवती को गिरफ्तार कर थाने ले जाने लगी. हालांकि युवती पुलिस की गाड़ी में नहीं बैठी. वह पैदल अपनी मां के साथ कोतवाली पहुंची. खबर लिखने तक महिला कोतवाली थाना पहुंच गई थी. वहीं पुलिस ने उसे सरकारी कार्य में बाधा डालने को लेकर गिरफ्तार कर लिया. एसडीएम धनंजय कुमार ने कहा कि आए दिन जाम की समस्या रहती है. लगातार हटाया भी जाता है. स्थायी दुकानदार भी दुकान से बाहर सामान लगा देते हैं. लोगों के पैदल आने जाने तक की जगह नहीं होती. इसी को लेकर अतिक्रमण हटाया जा रहा था.