10-December-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

बिहार में खुलेगा एक और केंद्रीय विद्यालय, भागलपुर समेत 12 जिलों के छात्रों का रुकेगा पलायन

Share This Post:

पटना : नए साल में बिहार को एक और केंद्रीय विद्यालय मिल जाएगा। यह केंद्रीय मिला सिल्क सिटी भागलपुर में खुलेगा। यहां केंद्रीय विद्यालय खुलने से भागलपुर समेत 12 जिलों को फायदा होगा। इन जिलों के विद्यालयों को पड़ोसी राज्य झारखंड या फिर बिहार के दूसरे जिलों में पलायन नहीं करना पड़ेगा। केंद्रीय विद्यालय संगठन लोहिया नगर ने स्कूल खोलने के लिए तिलकामांझी विश्वविद्यालय से जमीन मांगी है। इसको लेकर सिंडिकेट ने मंजूरी भी दे दी है। अगले माह सीनेट की बैठक होनी है, जिसमें इस प्रस्ताव को रखा जाएगा। सीनेट से मंजूरी मिलने के बाद राजभवन में प्रस्ताव जाएगा और वहां से स्वीकृत होते ही तिलकामांझी विश्वविद्यालय में केंद्रीय विद्यालय को खोले जाने का रास्ता साफ हो जाएगा। केंद्रीय विद्यालय खोलने के लिए 24 परगना की जमीन को चिह्नित किया गया है। इसका तिलकामांझी विश्वविद्यालया के अधिकारियों ने निरीक्षण भी कर लिया है। 24 परगना में पहले नाले का पानी बहने के कारण जमीन बेकार पड़ी हुई थी। जब से पानी सूखा है, लोग खेती कर रहे हैं। इसी क्षेत्र में विश्वविद्यालय के कर्मचारियों का सरकारी आवास भी है। इसके अलावा विश्वविद्यालय बाल निकेतन स्कूल भी संचालित होता है।

फिलहाल झारखंड या पटना का सहारा
फिलहाल भागलपुर और इसके आसपास के कई जिलों के छात्रों को केंद्रीय विद्यालय में दाखिला लेने के लिए पटना, मुजफ्फरपुर या फिर झारखंड की ओर रुख करना पड़ता है। इस स्थिति में कमजोर आर्थिक स्थिति वाले छात्र-छात्राओं के अभिभावकों की परेशानी और बढ़ जाती है। अब भागलपुर में केंद्रीय विद्यालय खुलता है तो वो अपने शहर या जिले में रहकर ही पढ़ाई कर सकेंगे।

नालंदा विवि की वीसी बनीं रिसर्च एंड इनोवेटिव कमेटी की सलाहकार
नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुनौन सिंह को रिसर्च एंड इनोवेटिव कमेटी का सलाहकार बनाया गया है। एसोसिएशन ऑफ द यूनिवर्सिटीज ऑफ एशिया एंड द पैसिफिक संस्थान ने यह उन्हें यह जिम्मेदारी दी है। एयूएपी एशिया-पैसिफिक क्षेत्र के विश्वविद्यालयों पर फोकस्ड अंतर्राष्ट्रीय संस्था है। यह संस्था पूरी दुनिया में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता और अनुसंधान की संस्कृति को बढ़ावा देती है। विश्व के 150 विश्वविद्यालय इसके सदस्य हैं। इससे पहले प्रो. सुनैना सिंह को नालंदा विश्वविद्यालय जैसे प्रतिष्ठित संस्थान का संचालित करने का मौका मिला हुआ है।