26-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

बड़ी खबर: 15 फरवरी का दिन लालू यादव के लिए बेहद अहम, चारा घोटाला में आएगा फैसला

Share This Post:

न्यूज़ डेस्क: लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) की मुश्किलें बढ़ने वाली है. डोरंडा कोषागार (Doranda Treasury scam case) से 139 करोड़ अवैध निकासी मामले में रांची सीबीआई कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गयी. शनिवार को सुनवाई पूरी होने के बाद कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है. चारा घोटाला (Fodder Scam) के इस मामले में 15 फरवरी को कोर्ट अपना फैसला सुनाएगी. मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव एक आरोपी हैं. अब 110 आरोपियों पर कोर्ट फैसला सुनाई जाएगी.

इस मामले में पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव, जगदीश शर्मा, डॉ. आरके शर्मा, ध्रुप भगत, पांच IAS, 30 पशु चिकित्सक, छह अकाउंट व 56 आपूर्तिकर्ता शामिल है. लालू यादव इस मामले में मुख्य आरोपी हैं. कई आरोपियों की मौत हो चुकी है, लेकिन कोर्ट में उनका मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं, जमा किया गया है, जिसके कारण उनका नाम अभी नहीं काटा गया है. कोर्ट ने ऐसे लोगों के मृत्यु प्रमाण पत्र हाजिर करने को कहा है.

बहुचर्चित चारा घोटाले में डोरंडा केस सबसे बड़ा मामला है. इसमें फर्जी आवंटन, फर्जी रसीद के जरिए अवैध निकासी की गई. लेकिन जांच के दौरान पता चला कि पशुओं की ढुलाई के लिए जिन गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया था उनका नंबर स्कूटर, बाइक, ऑटो, जीप का था. आरोप है कि बिहार के तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद यादव और तत्कालीन पशुपालन मंत्री ने सांठगांठ का राजस्व को फर्जी तरीके से निकाला.

एक रिपोर्ट के मुताबिक चारा घोटाले मामले में सरकारी खजाने से गलत तरीके से पैसा निकाले जाने का 27 जनवरी 1996 को पता लगा, जिसके बाद 11 मार्च 1996 को पटना हाईकोर्ट ने सीबीआई जांच के निर्देश दिए. 19 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जांच की निगरानी का निर्देश हाई कोर्ट को दिया. 30 जुलाई 1997 को लालू यादव ने इस मामले में सरेंडर किया. 19 अगस्त 1998 को लालू और राबड़ी देवी के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज हुआ.

5 अगस्त को लालू और राबड़ी देवी ने सरेंडर कर दिया, जिसमें राबड़ी को जमानत दे दी गई. 9 जून 2000 को कोर्ट में लालू यादव के खिलाफ आरोप तय हुए. 2001 में जब झारखंड अलग राज्य बन गया तो इस मामले को बिहार से ट्रांसफर कर दिया. 17 मई 2012 को सीबीआई ने चारा घोटाले मामले में लालू यादव पर आरोप तय किए. 30 सितंबर 2013 को लालू यादव को चारा घोटाले मामले में दोषी करार दिया गया.