30-November-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

Bihar: बिना पटाखे वाली दिवाली! मुजफ्फरपुर समेत कई शहरों में है पाबंदी, दुकानदारों की हालत खराब, छाई मायूसी

Share This Post:

Diwali 2022: शहर में बढ़ते प्रदूषण के असर को देखते हुए फिर से इस दिवाली (Diwali 2022) पटाखे फोड़ने पर पाबंदी रहेगी. इस साल दिवाली के अवसर पर लोग पटाखे नही फोड़ पाएंगे. पटना ,गया और वैशाली में भी प्रदूषण के स्तर को देखते हुए पूर्णतः पटाखे जलाने पर कुछ दिन पहले ही प्रतिबंध लगे हैं. इसे लेकर पटाखा दुकानों में काफी उदासी है. दुकानदारों की फिर से बिक्री होने की संभावना नहीं है. इधर, जिलाधिकारी प्रणव कुमार (DM Muzaffarpur) ने शनिवार को शहर वासियों से अपील की है कि प्रदूषण के बढ़ते असर को देखते हुए इस साल दिवाली में पटाखे न छोड़ें.

पटाखा बाजार की बिक्री को लेकर दुकानदार निराश

जिले का प्रदूषण देश के कई प्रदूषित शहरों में सबसे ज्यादा है. दिवाली के बाद इसका असर और भी बढ़ जाता है. इस वजह से सरकार को यह निर्णय लेना पड़ा है. हालांकि सरकार के इस निर्णय का असर सबसे ज्यादा छोटे बच्चों और उन लोगों पर पड़ेगा जिन्होंने दीवाली को लेकर पटाखे जलाने और खुशियां मानाने की प्लानिंग कर ली होगी. सरकार के इस फैसले के बाद उनके सारे प्लानिंग पर पानी फिर जाएगा.

मुजफ्फरपुर के पुरानी बाजार स्थित रीबस्थान मंदिर के पास पटाखों की उत्तर बिहार की सबसे बड़ी मंडी है. यहां के सभी दुकानदारों के सारे मंसूबे पर पानी फिर गया है. एक ओर जहां दो सालों से पूरे मंडी में कोरोना को लेकर बाजार पूरी तरह से कमजोर था. बिक्री नहीं हो पाई थी. वहीं अब इस साल दुकानदार अच्छी बिक्री की उम्मीद लगाए बैठे थे. यहां लाखों के पटाखों का कारोबार होता है. सरकार के इस निर्णय से उन्हें काफी नुकसान होगा. उन लोगों के द्वारा पटाखों की खरीदारी दिवाली के कई महीने पहले ही हो जाती.

जिलाधिकारी ने की दिवाली पर पटाखा नहीं जलाने की अपील

शनिवार को छठ घाटों के सफाई का जायजा लेते हुए जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने बताया कि इस साल जिले में दिवाली को लेकर पटाखे छोड़ने पर पूरी तरह से रोक रहेगी. प्रदूषण के बढ़ते असर को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है. उन्होंने बताया कि सर्दी का मौसम आ रहा जिस वजह से पटाखों के कारण विजिबिलिटी बहुत कम हो जाती है. इससे प्रदूषण का असर बढ़ जाता है. यही कारण है कि सरकार ने यह निर्णय लिया है कि इस साल दीपावली में पटाखों के जलाने पर पाबंदी रहेगी. साथ ही पटाखों के दुकानों को भी बंद रखा जाएगा. इस नियम को नहीं मानने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.