26-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

पटना में 366 करोड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ गंगा रिसर्च सेंटर और म्यूजियम, जाने क्या होगा खास

Share This Post:

न्यूज़ डेस्क: जल्द ही बिहारवासियों को गंगा रिसर्च सेंटर की सौगात मिलने वाली है। इसका निर्माण कार्य पूरा हो गया है। म्यूजियम के तौर पर इसके निर्माण में 336 करोड़ का लागत आया है। इसमें पटना के सभी घाटों की खूबसूरती और उनके इतिहास के बारे में जानकारी दी गई है। साथ ही गंगा नदी की गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक की यात्रा के बारे में भी बताया गया है।

अब शीघ्र ही इसका लोकापर्ण किया जाएगा। दरसल पटना के कलेक्ट्रेट घाट पर बने यह गंगा रिसर्च सेंटर राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के अंतर्गत बनाया गया है। इसका दूसरा नाम गंगा म्यूजियम भी रखा गया है। बिहार राज्य में केंद्र सरकार ने नमामि गंगा योजना में 1050 करोड़ रुपए दिए थे। जिसमें से 336 करोड़ रुपए इस रिसर्च सेंटर के निर्माण में खर्च किया गया है।

इस म्यूजियम के अंदर बिहार में स्थित सभी प्रमुख स्थलों की जानकारी दी गई है। यह म्यूजियम बाहर से जितना खूबसूरत दिखता है, उससे कहीं ज्यादा अंदर का दृश्य है। लोगों का मन मोहने वाला है। बिहार शहरी आधारभूत संरचना विकास लिमिटेड की तरफ से इसे बनाया गया है।

म्यूजियम के अंदर एक बड़ी सी फ्रेम में गंगा के निकलने से लेकर गंगासागर तक मिलने की यात्रा को दर्शाया गया है। साथ ही इसी फ्रेम के अंदर पटना NIT घाट, कदम घाट सहित पटना के सभी घाटों का डमी मॉडल बनाया गया है। यहां प्रत्येक घाट को काफी खूबसूरती के साथ दर्शाया गया है। डमी मॉडल के जरिये लोग पटना के हर घाट का आनन्द ले सकते हैं। इसके अलावा म्यूजियम के भीतर लाइब्रेरी भी बनाई गई है। जहां लोग बैठ कर अपनी पसंद के अनुसार पढ़ भी सकते हैं। इसके अंदर हर तरह की किताबें उपलब्ध रहेगी।

म्यूजियम के भीतर एमपीथिएटर है। यहां पर्यटक ऑडियो विजुअल मोड में गंगा से जुड़ी हर तरह की जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा म्यूजियम के चारों तरफ ग्लास लगा है, जिससे गंगा नदी के आस-पास का नजारा भी दिखता है। दरसल गंगा नदी में डॉल्फिन की संख्या अधिक होने के कारण डॉल्फिन को राष्ट्रीय जल जीव घोषित किया गया है। इसका प्रस्ताव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिया था। गंगा म्यूजियम के भीतर डॉल्फिन का मॉडल बनाया गया है, जो लोगों का ध्यान आकर्षित करेगा। यह तक कि लाइब्रेरी की दीवार भी डॉल्फिन की तरह बनाया गया है। इस म्यूजियम का नजारा देखने के लिए लोगों को टिकट कटवाना होगा। हालांकि, टिकट की कीमत क्या होगी। इसकी जानकारी अभी नहीं दी गई है।