27-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

बिहार में इन सभी लोगों का 5 लाख तक का इलाज होगा मुफ्त, सरकार उठाएगी सारा खर्चा, जान लीजिए

Share This Post:

DESK: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेशवासियों को बड़ा तोहफा दिया है. दरअसल अब बिहार के सभी राशन कार्डधारी परिवारों का 5 लाख तक का इलाज मुफ्त होगा. सभी राशन कार्डधारी परिवारों का प्रति वर्ष पांच लाख तक का इलाज मुफ्त होगा. बिहार में अभी साढ़े पांच करोड़ लोगों को इसका लाभ मिल रहा था. अब इसका लाभ और चार करोड़ लोगों को मिलेगा. बिहार सरकार अपनी राशि से इसका लाभ लोगों को देगी. विधानसभा में गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने विधानसभा ने इसकी घोषणा की है.

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत राज्य के लोगों को मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाएं अब राज्य के नये 85 लाख परिवारों को मिलेगी. इन्हें यह सुविधा राज्य सरकार अपने खर्च से उपलब्ध कराएगी. अप्रैल में शुरू हो रहे वित्तीय वर्ष 2022-23 से यह सुविधा मिलने लगेगी. मंगल पांडेय ने कहा कि राज्य के एक करोड़ नौ लाख परिवार के सदस्यों को आयुष्मान योजना के अंतर्गत प्रति वर्ष पांच लाख तक की चिकित्सा सुविधा मुफ्त में उपलब्ध करायी जाती है. इन लाभार्थियों की सूची में राज्य के 85 लाख राशन कार्डधारी परिवार बाहर थे, जिन्हें आयुष्मान योजना की तर्ज पर ही चिकित्सा सुविधा राज्य सरकार उपलब्ध कराएगी.

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने घोषणा की है कि मुंगेर और मोतिहारी में भी नये मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल खोले जाएंगे. कॉलेज में 150 एमबीबीएस सीट की क्षमता होगी. उन्होंने कहा कि इससे पहले 11 नये मेडिकल कॉलेजों की स्थापना प्रक्रियाधीन है. विभाग के वर्ष 2022-23 के लिए 16 हजार 134 करोड़ के बजट की स्वीकृति दी गई. साथ ही स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी कहा कि राज्य के शहरी क्षेत्रों में 20 मिनट और गांवों में 35 मिनट में मरीजों तक एंबुलेंस पहुंचेगी. यह व्यवस्था अगले तीन माह के अंदर शुरू कर दी जाएगी.

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बिहार विधानसभा में कहा कि बिहार में एक महीने में 9000 नर्सों की बहाली होगी. 17 हजार मेडिकल स्टाफ और नर्सों बहाली हुई है. वहीं उन्होंने कहा कि बिहार में 12 करोड़ 33 लाख लोगों का टीकाकरण हो चुका है. मंत्री ने कहा कि सूबे में स्वास्थ्य विभाग में बेहतर काम हुआ है. मेडिकल कॉलेजों में ऑक्सीजन की सुविधा है. कोरोना के सारे वेरियंट की जांच भी संभव है. स्पीड पोस्ट से लोगों तक किट्स भेजे गए हैं.