25-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

बिहटा में बनेगा आइटी पार्क और आइटी टावर सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी केंद्र के रूप में विकसित होगा पटना

Share This Post:

DESK: बिहार में सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के सम्बंध में सरकार काफी गंभीर है और इसके लिए बड़ी योजनाएं भी तैयार कर ली गई हैं। आइटी विभाग के विशेष सचिव अरविंद कुमार चौधरी ने भविष्य में IT की गतिविधि को बढ़ाने के लिए बिहटा में IT पार्क और डाकबंगला व बंदरबगीचा में IT टावर की परिकल्पना साझा किया। शनिवार को सीडैक के 35वें स्थापना दिवस पर मौर्या होटल में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के क्षेत्र में वृद्धि करने के लिए यह उपयोगी सिद्ध होगा। पूर्व राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा समन्वयक, पीएमओ डॉ गुलशन राय ने सीडैक को बीते 35 वर्षों की उपलब्धियों पर बधाई देते हुए पटना को सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी केंद्र के रूप में विकसित करने की बात कही।

इसके अलावा इ-गवर्नेंस व साइबर गवर्नेंस को भविष्य के जरूरत बताई तथा उसके लिए तैयार रहने की बात कही। कैपजेमिनी इंडिया के वरिष्ठ निदेशक प्रभाकर सिन्हा, सीडैक पटना के निदेशक आदित्य कुमार सिन्हा समेत कई अन्य विशेषज्ञ भी कार्यक्रम के दौरान उपस्थित थे। अगले माह से एकीकृत आपातकालीन नंबर 112 का इस्तेमाल प्रारंभ हो जायेगा।

सीडैक के 35वें स्थापना दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में एडीजी, मुख्यालय जीएस गंगवार ने कहा कि जल्द ही हम पटना में इसे शुरू करने वाले हैं और अगले एक-दो माह में यह उपयोग होने लगेगा। फायर ब्रिगेड, एंबुलेंस और पुलिस सहायता सभी एक ही नंबर पर उपलब्ध होंगे और जीपीएस से जरुरतमंद व्यक्ति को नजदीकी पुलिस की गश्ती दल की तुंरत सहायता प्रदान की जायेगी।

इसके लिए हर 2 से 3 किमी की दूरी पर पुलिस की गश्ती दल तैनात रहेगी। उन्होंने सीडैक के बारे में बताते हुए कहा कि शहर में लगे सीसीटीवी की मॉनिटरिंग या स्मार्ट सिटी का कॉन्सैप्ट सभी में सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट की महत्वपूर्ण भूमिका है। सीडैक के डायरेक्टर से उन्होंने अनुरोध किया कि बिहार के अलावा अन्य राज्यों में स्थित सीडैक सेंटरों में पुलिस के इस्तेमाल से संबंधित जो भी सॉफ्टवेयर बने हैं, एक से दो माह के भीतर उन सबके बारे में जानकारी इकट्ठा कर उसे बिहार के डीजीपी के साथ बैठक कर साक्षा करें तकि हम उनमें से जरुरी सॉफ्टवेयरों को अपने इस्तेमाल के लिए चयन कर सकें। साइबर सेनानी नाम से पटना पुलिस द्वारा बनाये गये व्हाट्सएप ग्रुप की भी चर्चा की और बिना किसी अतिरिक्त खर्च के लगभग 2.5 लाख लोगों को इससे जुड़ने की बात कही।