01-December-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

25 जनवरी होगा मुंगेर, खगड़िया, बेगूसराय के लिए एतिहासिक दिन, 19 साल से बन रहा गंगा रेल सह सड़क पुल होगा चालू

Share This Post:

पटना : मुंगेर और खगड़ियों को जोड़ने केलिए गंगा नदी पर बन रहा रेल सह सड़क पुल का उद्‌घाटन अब 25 जनवरी को होगा। 25 दिसंबर के उद्‌घाटन को टाल दिया गया है। इस दिन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर पुल का उद्‌घाटन होना था, मगर अब 25 जनवरी यह पुल आम लोगों के लिए शुरू किया जाएगा। फिलहाल एप्रोच रोड का काम चल रहा है। इस पुल के शुरू होने से खगड़िया, मुंगेर और बेगूसराय की दूरी बेहद कम हो जाएगी। खासतौर पर खगड़िया का मुंगेर से सीधा रास्ता हो जाएगा और 100 किलोमीटर दूरी कम हो जाएगी। फिलहाल खगड़िया के लोग नदी पार कर मुंगेर आते हैं या फिर भागलपुर होते हुए मुंगेर पहुंचते हैं।

2003 में अटल बिहारी ने किया था शिलान्यास
इस रेल सह सड़क पुल के निर्माण कार्य का शिलान्यास 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था। तब नीतीश कुमार रेल मंत्री थे। यह परियोजनाओं वाजपेयी और नीतीश का ड्रीम प्रोजेक्ट है। अब 18 साल बाद यह पुल शुरू होगा। बता दें एप्रोच पथ के रास्ते में 600 मीटर के दायरे में आम लोगों का घर होने के कारण निर्माण में देरी हुई है। इन्हें 80 करोड़ रुपए मुआवजा देकर घर खाली करवाया गया है। एप्रोच रोड की लंबाई 500 मीटर है। जब इस परियोजना की शुरुआत हुई थी, तब 921 करोड़ रुपए लागत थी। अब इसकी लागत 2774 करोड़ रुपए हो चुकी है। पुल के शुरू होने से मुंगेर, खगड़िया और बेगूसराय के व्यापार में काफी इजाफा होगा। आसानी एक जिले से दूसरे जिले में किसान अपनी फसल पहुंचा सकेंगे।

रेल पुल हो चुका है चालू
गंगा रेल सह सड़क पुल पर चार साल पहले ही रेल परिचालन शुरू कर दिया गया है। लेकिन, सड़क निर्माण का मामला फंसे होने के कारण वाहनों का परिचालन नहीं शुरू हुआ है। कभी एप्रोच रोड तो कभी एनएच के आसपास लिंक रोड के निर्माण में पेंच फंसने से 19 साल से सड़क का निर्माण अधूरा है।फिलहाल एप्रोच पूरा होने का है।

इसके बाद सड़क पर भी परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। कार्यकारी एजेंसी का कहना है कि एप्रोच रोड में मकान वाला पेंच नहीं फंसता तो बिल्कुल पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर इसका उद्‌घाटन हो जाता, मगर सरकार से मुआवजे के लिए राशि देने में देरी होने से कई महीनों तक काम बंद रहा।