09-December-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

Mulayam Singh Yadav Death: नहीं रहे नेताजी, समाजवादी राजनीति के ‘युग’ और UP के पूर्व CM मुलायम सिंह यादव का निधन, PM मोदी ने जताया दुख

Share This Post:

DESK: उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव का सोमवार को लंबी बीमारी के बाद गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया. मुलायम सिंह को सांस लेने में ज्यादा दिक्कत होने पर मेदांता अस्पताल के आईसीयू में शिफ्ट किया गया था. 82 साल के मुलायम सिंह ने आज सुबह 8.16 पर आखिरी सांस ली. 3 बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और केंद्र सरकार में रक्षामंत्री रहे मुलायम सिंह को देश के दिग्गज राजनेताओं में गिना जाता था. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुलायम सिंह यादव अखिलेश यादव ने उनके निधन की जानकारी दी. मुलायम सिंह यादव के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है.

मुलायम सिंह यादव के निधन पर यूपी में तीन दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया गया है. गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल में एक डॉक्टरो का पैनल मुलायम सिंह यादव का इलाज कर रहा था. उन्हें 22 अगस्त को मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया था. मुलायम सिंह यादव को यूरिन संक्रमण, ब्लड प्रेशर की समस्या और सांस लेने में तकलीफ के चलते मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था. तबीयत बिगड़ने पर उन्हें 1 अक्टूबर को आईसीयू में भर्ती कराया गया था. जहां उनकी तबीयत नाजुक बनी हुई थी. मुलायम सिंह के निधन के बाद समाजवादी परिवार में शोक की लहर डूब गया.

मुलायम सिंह यादव निधन पर सभी नेता उनको श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं. राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी मुलायम सिंह यादव के निधन पर दुख व्यक्त किया है. उन्होंने कहा है कि उनका निधन देश के लिए अपूरणीय क्षति है. राष्ट्रपति ने ट्वीट कर लिखा कि साधारण परिवेश से आए मुलायम सिंह यादव जी की उपलब्धियां असाधारण थीं. धरती पुत्र मुलायम जी जमीन से जुड़े दिग्गज नेता थे. उनका सम्मान सभी दलों के लोग करते थे. उनके परिवार-जन व समर्थकों के प्रति मेरी गहन शोक-संवेदनाएं! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस मौके पर काफी भावुक नजर आए. उन्होंने एक के बाद एक ट्वीट कर मुलायम सिंह यादव के बारे में बहुत कुछ लिखा, इसके साथ ही उन्होंने मुलायम सिंह के साथ अपनी कई तस्वीरों को ट्वीट किया.

पीएम मोदी ने अपने ट्वीटों की श्रृखंला में लिखा कि मुलायम सिंह यादव जी एक विलक्षण व्यक्तित्व के धनी थे. उन्हें एक विनम्र और जमीन से जुड़े नेता के रूप में व्यापक रूप से सराहा गया, जो लोगों की समस्याओं के प्रति संवेदनशील थे. उन्होंने लगन से लोगों की सेवा की और लोकनायक जेपी और डॉ. लोहिया के आदर्शों को लोकप्रिय बनाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. मुलायम सिंह यादव जी ने यूपी और राष्ट्रीय राजनीति में अपनी अलग पहचान बनाई. वह आपातकाल के दौरान लोकतंत्र के लिए एक प्रमुख सैनिक थे. रक्षा मंत्री के रूप में, उन्होंने एक मजबूत भारत के लिए काम किया. उनके संसदीय हस्तक्षेप व्यावहारिक थे और राष्ट्रीय हित को आगे बढ़ाने पर जोर देते थे. जब हमने अपने-अपने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के रूप में काम किया, तब मुलायम सिंह यादव जी के साथ मेरी कई बातचीत हुई. घनिष्ठता जारी रही और मैं हमेशा उनके विचारों को सुनने के लिए उत्सुक था. उनका निधन मुझे पीड़ा देता है. उनके परिवार और लाखों समर्थकों के प्रति संवेदना, शांति.

बता दें कि 22 नवंबर 1939 को इटावा जिले के सैफई में जन्मे मुलायम सिंह यादव ने करीब 6 दशक तक सक्रिय राजनीति में हिस्सा लिया. वो कई बार यूपी विधानसभा और विधान परिषद के सदस्य रहे. इसके अलावा उन्होंने संसद के सदस्य के रूप में ग्यारहवीं, बारहवीं, तेरहवीं और पंद्रहवीं लोकसभा में हिस्सा भी लिया. मुलायम सिंह यादव कुल 8 बार विधानसभा के सदस्य बने. मुलायम सिंह यादव ने तीन बार यूपी के सीएम के रूप में काम किया. वो पहली बार 5 दिसम्बर 1989 से 24 जनवरी 1991, दूसरी बार 5 दिसम्बर 1993 से 3 जून 1996 तक और तीसरी बार 29 अगस्त 2003 से 11 मई 2007 तक उत्तर प्रदेश के सीएम रहे. इन कार्यकालों के अलावा उन्होंने 1996 में एचडी देवगौड़ा की संयुक्त गठबंधन वाली सरकार में रक्षामंत्री के रूप में भी काम किया.