25-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

बिहार राज्य के समस्तीपुर जिले में खुलेगा सैनिक स्कूल, इसी वर्ष से होगा पढ़ाई शुरू

Share This Post:

DESK: रक्षा मंत्रालय से राज्य में निजी स्कूलों के साथ सहभागिता में 21 सैनिक स्कूलों बनाने की स्वीकृति मिल गई है। जो मई 2022 से शुरू किया जाएगा। बिहार के समस्तीपुर, यूपी, उत्तराखंड एवं हरियाणा में एक-एक नए स्कूलों को मंजूरी मिली है। सरकार ने बजट पेश में हुए निजी भागीदारी में कुल 100 सैनिक स्कूल खोलने की घोषणा किया था। रोसड़ा के बटहा गांव में सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर को केंद्र सरकार ने सैनिक स्कूल में तब्दील करने का निर्णय लिया है। हालांकि इस निर्णय से वहां के लोगों में काफी खुशी है।

12 एकड़ में फैले सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर की स्थापना 1998 में बटहा निवासी स्वर्गीय डॉ. रामस्वरूप महतो ने की थी।रामस्वरूप महतो इंग्लैंड में चिकित्सक थे, लेकिन विदेश में रहने के बाद भी अपनी मिट्टी से काफी लगाव था। यहीं वजह है कि, उन्होंने अपनी सारी कमाई विद्यालय बनाने में लगा दी, जो सूबे में अपनी एक अलग पहचान बना सके।

स्थापना के बाद यह विद्यालय लगातार प्रगति पर रहा। स्कूल का कैंपस 12 एकड़ में फैला हुआ है। इस विशाल भूखंड में विशाल विद्यालय भवन, आलीशान ऑडिटोरियम एवं छात्र-छात्राओं का रम्य छात्रावास भी है। प्रयोगशाला और पुस्तकालय भी है। विद्यालय के विशाल परिसर पेड़-पौधों एवं फूलों से आच्छादित है। प्रकृति नजारा देखने को मिलती है। वर्तमान में इस विद्यालय में लगभग 1250 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। वहीं 40 शिक्षक एवं 75 शिक्षकेत्तर कर्मी सेवा दे रहे हैं।

विद्यालय को सीबीएसई बोर्ड से प्लस टू तक की मान्यता प्राप्त है। सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर स्थापना के समय से ही प्रगति के पथ पर अग्रसर रहा है। विद्यालय की शिक्षा व्यवस्था एवं शिक्षकों की विद्वता व कर्मठता के कारण ही मैट्रिक एवं इंटर की परीक्षा परिणाम में बेहतर रहता है। इस विद्यालय से इंटर पास करने वाले विद्यार्थियों ने जेईई व नीट आदि प्रतियोगी परीक्षा में भी बेहतर प्रदर्शन कर ऊंचा मुकाम हासिल किया है।

कई छात्र इसरो में साइंटिस्ट हैं तो कई विदेशों में अपना परचम लहरा रहे हैं। इसी विद्यालय का छात्र त्रिपुरारि मुंबई में रहकर सिर्फ युवा शायर ही नही अपितु गीतकार और कवि के रूप में भी अपनी पहचान बनाई है। बेहतर शिक्षा व कुशल अनुशासन के लिए इस क्षेत्र में चर्चित है। इस विद्यालय का संचालन रामकृष्ण एजुकेशन ट्रस्ट और विद्या भारती बिहार की समिति करती है।

विद्या भारती के पदाधिकारी समिति के सचिव और ट्रस्ट के सदस्य अध्यक्ष होते हैं। अभी विनोद कुमार इस समिति के अध्यक्ष हैं। इस समिति में 11 सदस्य शामिल हैं। इस विद्यालय के अध्यक्ष विनोद कुमार ने कहा, ‘डॉ. रामस्वरूप महतो का सपना साकार हुआ है। उन्होंने पिछड़े इलाके में शिक्षा के प्रसार एवं बेहतर शिक्षा के उद्देश्य से इस स्कूल की स्थापना की थी और उसमें स्कूल को सफलता भी मिली है।