01-July-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

Bihar: ग्रेजुएट चायवाली को टक्कर देने आ गई आत्मनिर्भर चायवाली,BCA करने के बाद बेच रही चाय

Share This Post:

PATNA: बिहार में इन दिनों पढ़े लिखे चायवाली की चर्चा तेज है. ग्रेजुएट चायवाली के बाद अब पटना में आत्मनिर्भर चायवाली आयी है. बीते दिनों ग्रेजुएट चायवाली प्रियंका गुप्ता पूरे देश भर में चर्चा में आ गई थीं. हालांकि आत्मनिर्भर चायवाली मोना पटेल की कहानी ग्रेजुएट चायवाली से अलग है. आर्थिक रूप से कमजोर आत्मनिर्भर चायवाली मोना पटेल के सपने बड़े हैं लेकिन उसके पास उतने पैसे नहीं है. जिसकी वजह से जेडी विमेंस कॉलेज से ग्रेजुएट मोना पटेल ने चाय की स्टॉल खोल दी.

आत्मनिर्भर चायवाली के नाम से चर्चा में आयी पटना की ही मोना पटेल ने ज्ञान भवन के ठीक सामने आत्मनिर्भर चाय का स्टॉल खोला है. मोना ने अपनी आर्थिक स्थिति से तंग आकर चाय के स्टॉल की शुरुआत की है. मोना पटेल ग्रेजुएट चायवाली प्रियंका गुप्ता को देख कर इंस्पायर हुई है. मोना पटेल मूल रूप से समस्तीपुर की रहने वाली हैं, हालांकि वो परिवार के साथ पटना के कंकड़बाग में रहती हैं. मोना पटेल की दो बहने हैं और उनके पिता एक प्राइवेट स्कूल में शिक्षक हैं.

आत्मनिर्भर चायवाली के नाम से चर्चा में आयी मोना पटेल का कहना है कि दूसरों पर डिपेंड रहने से अच्छा है आत्मनिर्भर बना जाए. उन्होंने अपने सपने के बारे में बताया कि मेरा भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने का सपना था. लेकिन अभी MCA और MBA में से मुझे कोई एक करना है लेकिन मुझे MBA बेटर लग रहा है. इसलिए मैं MBA करूंगी. मोना पटेल ने बताया कि अभी मेरे पास उतने पैसे नहीं है. अच्छे कॉलेज से MBA करने के लिए 6 से 7 लाख रुपए चाहिए. इसलिए मैं चाहता हूं कि चाय बेचकर पैसे जमा करूं और फिर इसके बाद MBA करना है.

आत्मनिर्भर चायवाली मोना पटेल अपने माता-पिता को बताए बिना चाय की स्टॉल खोली है. उन्होंने बताया कि पटना में मेरे पापा प्राइवेट टीचर हैं. मोना ने बताया कि पापा को पता नहीं था कि हम चाय बेच रहे हैं. हालांकि कल कुछ यूट्यूब पर मेरे बारे में आया था. मेरे पापा सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं तो उन्हें पता चल गया. तो उन्होंने कहा कि तुम रोड पर चाय क्यों बेच रही हो. उनको अच्छा नहीं लग रहा है. हालांकि फिर भी वह मान गए हैं. मोना ने बताया कि लेकिन मम्मी को शर्मिंदगी महसूस हो रही है लोग क्या कहेंगे. पढ़ लिखकर बेटी चाय बेच रही है.

बता दें कि बीते दिनों पटना में वुमेंस कॉलेज के बाहर ग्रेजुएट चाय का स्टॉल लगाने वाली प्रियंका गुप्ता पूरे देश भर में चर्चित हो गई थीं. इसी का असर है कि पटना की अन्य पढ़ी लिखी लड़कियां भी अब प्रियंका से इंस्पायर होकर इसी राह पर उतर आई हैं. आत्मनिर्भर चायवाली मोना पटेल ने बताया कि मैं यूट्यूब पर प्रियंका गुप्ता को देख कर इंस्पायर्ड हो गई. इसके बाद मैंने भी अपना स्टॉल खोलने का फैसला लिया. उन्होंने कहा कि मुझे ही नहीं बल्कि सभी लड़कियों को आगे आना चाहिए. खुद से आत्मनिर्भर बनना चाहिए ताकि किसी को किसी पर आश्रित होने की जरूरत न पड़े.