26-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

शराबबंदी में शिक्षकों की ड्यूटी लगाने का शिक्षक संघों ने किया विरोध, सड़क पर नारेबाजी और पुतला दहन

Share This Post:

न्यूज़ डेस्क: शराब बंदी में शिक्षकों की ड्यूटी लगाये जाने का विभिन्न शिक्षक संघ ने विरोध किया है. प्रदेश के अलग-अलग जिलों में शिक्षा विभाग के द्वारा जारी आदेश के खिलाफ नारेबाजी और पुतला फूंका गया.

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव शत्रुघ्न सिंह व विनय मोहन ने शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव को इस निर्देश को वापस लेने की मांग की है. उन्होंने कहा कि गोपनीय सूचनाएं देने वालों की हत्यायें हो रही हैं. यह शिक्षकों के जान के लिए खतरा हो सकता है.

बिहार के अलग-अलग जिलों में सरकार के नये निर्देश का विरोध सड़कों पर उतरकर किया गया. कहीं शिक्षकों ने नारेबाजी की तो कहीं पुतला दहन किया गया. बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष आनंद कौशल के नेतृत्व में जमुई ईकाई ने मार्च निकाला. सड़कों पर उतकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गयी और पुतला दहन किया गया. शिक्षा मंत्री के खिलाफ नारेबाजी कर आदेश वापस लेने की मांग की.

शिक्षक नेताओं ने कहा कि अपर मुख्य सचिव के पत्र के अवलोकन से ऐसा प्रतीत होता है कि बिहार में शिक्षा की आवश्यकता नहीं है कोरोना महामारी के कारण लगभग 2 वर्षों से पढ़ाई बंद है. राजभर के शिक्षकों को विभिन्न गैर शैक्षणिक कार्यों का दायित्व पहले ही दिया जा चुका है, जिससे राजभर के शैक्षणिक माहौल पूरी तरह चरमराया हुआ हैं.

टीईटी शिक्षक संघ के अध्यक्ष ने कहा कि शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव का शराबबंदी में मुखबिरी का काम करने के लिए शिक्षकों के लिए जो आदेश निकला है वह ना केवल शिक्षा के अधिकार के कानून का उल्लंघन है बल्कि माननीय उच्च न्यायालय की भी अवमानना है. यह वापस लिया जाना चाहिए.