30-November-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

ढोलबज्जा: बिंदटोली व खलीफा टोला के ग्रामीणों ने समझौता कर विवादित सड़क से बांस-बल्ली हटाए.

Share This Post:

रिपोर्ट/-मनीष कुमार मौर्या/-ढोलबज्जा: मधेपुरा व भागलपुर जिले के सीमांत क्षेत्र बिन्दटोली से खलीफा टोला हो कर फोरलेन सड़क तक जाने वाली कच्ची सड़क वर्षों से विवादों में घिरे हुए हैं. एक सप्ताह पहले खलीफा टोला के जमीन मालिकों ने सड़क पर बांस-बल्ली लगाकर आवागमन बाधित कर दिया था. जिसको लेकर बिंदटोली के ग्रामीणों ने साथ वार्ड जयलाल मंडल व परमानंद पौद्दार ने खलीफा टोला के ग्रामीणों साथ समझौता कर सड़क से बांस-बल्ली हटाया. समझौता के दौरान बांस-बल्ली हटाने से पहले कुछ गणमान्य लोगों द्वारा निर्मय लिया गया है कि खलीफा टोला के जमीन मालिक दिनेश मंडल व विजय यादव के परिवार रास्ता देने को तैयार हैं लेकिन, विजय यादव का कहना है उसके गांव के लोगों में जो उसके जमीन व पेड़ निकल रहे हैं वह पहले छोड़े और बिंदटोली निवासी सुरेश मंडल सड़क पर अवैध रूप से कब्जा कर कोचिंग चला रहे हैं वह भी सड़क की जमीन छोड़ दें उसके बाद हमलोग बांस-बल्ली नहीं लगाएंगे.

इसी बात पर सभी ने अपनी सहमती जताते हुए, तत्काल दो पहिया वाहन तक हीं गुजरने के लिए सड़क पर से प्रतिबंधित सामान हटाए. ग्रामीणों की मानें तो यह सड़क नेता व जनप्रतिनिधियों के लिए एक चुनावी मुद्दा हीं बन कर रह गई है. लोकसभा, विधानसभा हो या पंचायत चुनाव के समय नेता लोग आ कर तरह-तरह के वादे करते हैं. वोट लेकर जब जीत कर चले जाते हैं तो फिर उसे इससे कोई मतलब नहीं रहता है. इस सड़क निर्माण को लेकर, वर्षों से उपेक्षित लौआलगान बिंदटोली के लोगों ने कई बार धरना प्रदर्शन व अंचल कार्यालय चौसा में तालाबंदी कर जन आंदोलन भी किया है. जिसमें चौसा पदाधिकारियों के द्वारा बिंदटोली के करीब 13 लोगों को प्राथमिकी अभियुक्त भी बनाया गया है. जिसका मामला व्यवहार न्यायालय मधेपुरा में चल रही है. ज्ञात हो कि दो साल पहले उदाकिशुनगंज एसडीओ एसजेड हसन व आलमनगर विधायक नरेंद्र नारायण यादव ने मामले को गंभीरता से लेते हुए इस सड़क निर्माण के लिए काफी पहल किया था.

जिसमें करीब 12-14 ज़मीन मालिकों के जमीन अधिग्रहण कर उसे दो गुणा अधिक मुआवजे देने का भी प्रस्ताव संबंधित किसान को अनुमंडलीय कार्यालय से सूचना देकर कागजात जमा करने को कहा गया था लेकिन जमीन मालिकों द्वारा संबंधित जमीन का कागजात नहीं जमा किए जाने की बात बताई जा रही है. स्थानीय लोगों ने बताया कि इस बार के पंचायत चुनाव में अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए अपनी हीं जमीन होकर सड़क के निर्माण कार्य करने जिप प्रत्याशी रीता देवी पति जयप्रकाश उर्फ टुन्नी मंडल ने लोगों से वोट भी मांगे हैं. जिसमें वहां के ग्रामीणों ने गोलबंद होकर वोट भी किए हैं लेकिन फिर भी समस्या फंस गए हैं कि जिधर से टुन्नी मंडल अपना जमीन देकर इस सड़क का निर्माण करना चाहते हैं उस रास्ते में कई छोटे भूमिहीन परिवारों के अपना रैयती जमीन है. जिसका गुत्थी सुलझाना नव निर्वाचित जिप को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.