26-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

नवगछिया: 1 करोड़ 11 लाख की लागत से बन रही ग्रामीण सड़क के निर्माण कार्य मे बरती जा रही भारी अनियमितता; संवेदक के खिलाफ ग्रामीणों में आक्रोश

Share This Post:

NAUGACHIA: सूबे की सरकार नीतीश कुमार द्वारा राज्य की जनता को विभिन्न तरह की योजनाओं से हर तरह की सुविधाएं प्रदान की जा रही है। जिससे समाजिक बदलाव हो, साथ-साथ गाँव की शिक्षा समेत सड़कें, तालाब, कुंआ, खेल का मैदान आदि को पुनर्जीवित कर तैयार किया जा रहा है। जिसमे कडोडों रुपये खर्च कर रहे हैं, परंतु मुख्यमंत्री के इस नेकी का उनके ही अपने विभाग के इंजीनियर, कर्मचारी, कुछ जनप्रतिनिधि एवं निर्माण कार्य करने वाले संवेदक गलत फायदा उठा रहे हैं।

सरकार की योजनाओं से बन रहे सड़क पुल पुलिया आदि के निर्माण कार्य मे संवेदक व इंजीनियर द्वारा भारी लापरवाही बरतने का मामला रोज अखबारों न्यूज चैनलों में देखी जा सकती है। जिसका जीता जागता उदाहरण सुल्तानगंज-मुंगेर पुल का धरासाई हो जाना, इस बात का प्रमाण है कि सरकार द्वारा आवंटित राशी का 50 % भी सरजमीं पर खर्च नही हो रहा है। हालांकि जनता में इस बात का बखूबी ज्ञात है और चर्चा भी है कि बिहार के नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार का सूरत ए हाल बदल रहा है। लेकिन भ्रष्टाचार अब भी व्याप्त है।

ताजा मामला नारायणपुर प्रखंड अंतर्गत सिहपुर पश्चिम पंचायत के नवटोलिया गाँव वार्ड संख्या- 12 में बन रही मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना (एनडीबी ब्रिक्स) ग्रामीण कार्य विभाग योजना के तहत सड़क निर्माण कार्य में संवेदक के द्वारा अनियमितता बरती जा रही है। इसे लेकर ग्रामीणों में काफी आक्रोश हैं। विदित हो कि इस सड़क का उद्घाटन बिहपुर विधायक ई. कुमार शैलेंद्र के द्वारा 15 जुलाई 2021 को किया गया था। नौ माह के बाद सड़क का निर्माण कार्य शुरु हुआ है।

जुलाई 2022 में कार्य सम्पन्न हो जाएगा। बता दें कि आजादी के बाद पहली बार 1 कडोड 11 लाख की राशी से 6 सौ मीटर लंबी यह सड़क ग्रामीणों के लिए एक सौगात है। सड़क पहली बार बन रही है इससे लोगों में उत्साह तो है लेकिन सड़क निर्माण की गुणवत्ता पर शंशय है। संवेदक की ओर से सड़क निर्माण कार्य में गुणवत्ता नहीं रखे जाने से ग्रामीणों में काफी नाराजगी है।

जानकारी हो कि नारायणपुर-सलारपुर जमींदारी बांध 14 नम्बर सड़क से मिडिल स्कूल नवटोलिया बासा बांध तक ग्रामीण कार्य विभाग योजना के तहत एक करोड़ 11 लाख रुपये से अधिक की लागत से सड़क का निर्माण होना है। ग्रामीण राजेश, दिलीप, योगेश, जितेंद्र, संतोष, सनीचर आदि ने कहा कि बांध की मजबूती के लिए गड्ढे में 20 इंच मोटी और ढाई फिट चौड़ी दीवार का निर्माण हो रहा है, बताया जा रहा है की उक्त दीवार के निर्माण में तीन नम्बर ईंट का उपयोग किया जा रहा है। साथ ही 8/1 का सीमेंट मिलाकर घटिया मेटेरियल मिश्रित करके ईंट जोड़ाई किया जा रहा है।

जिसमे सीमेंट का अनुपात काफी कम है। जो भविष्य मे गड्ढे में पानी भर जाने का बाद धसान होने से दीवार फटकर गिर सकता है। जिससे सड़क के ध्वस्त होने की संभावना बढ़ जाएगी। जबकि प्राक्कलन के हिसाब से सड़क की चौड़ाई व ऊंचाई के साथ गुणवत्तापूर्ण सड़क निर्माण कार्य होना चाहिए। फिर भी संवेदक द्वारा नियम को ताख पर रखकर निर्माण कार्य किया जा रहा है। वही सम्बंधित विभाग चुप्पी साधे मूकदर्शक बने है। ग्रामीणों ने सड़क निर्माण कार्य की जांच करने की मांग जिलाधिकारी से की है।

इस बारे में संवेदक- दिलीप कुमार मुनका ने कहा अपना मारजिंग देखकर ही काम करेंगे। ईटा महंगा हो गया, और भी बहुत बात है। उन्होंने दबाव देते हुए कहा कि कहिएगा तो काम बंद कर देते हैं। कहने का तात्पर्य की उनका संतोषप्रद जवाब नही मिला। दोषपूर्ण कार्य के विषय मे या उसके सुधार के लिए कुछ नही बोले।
इस बारे में भागलपुर जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने कहा कि उक्त सडक निर्माण कार्य की जांच कराई जाएगी और सत्यता मिलने पर कार्यवाई की जाएगी।