28-June-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

नवगछिया: तीन फरवरी की रात अपराधी द्वारा धारदार हथियार से रेता गया था महिला का गला,घटना के 12 दिन बाद भी अपराधी पुलिस पहुँच से बाहर

Share This Post:
  • मायागंज से ईलाज कराकर 12 दिन बाद घर लौटी चंपा,
  • अपराधियों के भय के कारण घर से नही निकल रहे मुकेश
  • मुकेश महतो के मोबाइल पर आया था घटना में शामिल अपराधी का फोन
  • मुकेश ने कहा हमरा मारी देतै बाबू
  • गला रेतने वाले अपराधी द्वारा पति मुकेश को किया गया था फ़ोन

नवगछिया। झंडापुर ओपी क्षेत्र के औलियाबाद वार्ड संख्या- 10 में बीते तीन फरवरी की रात करीब 10 बजे अज्ञात अपराधियो द्वारा स्थानीय ठेला चालक मुकेश महतो की 35 वर्षीय पत्नी चंपा देवी का धारदार हथियार से गला रेत दिया था। गंभीर स्थिति में परिजन उसे बिहपुर सीएचसी से डॉक्टर ने मायागंज भागलपुर रेफर किया था। पिछले नौ दिन से उसका इलाज वहां चल रहा था। उचित इलाज के बाद धीरे धीरे महिला के हालत में सुधार हुआ और 12 फरवरी को डॉक्टर ने चंपा देवी को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर घर भेज दिया। हालांकि चंपा देवी अभी मुँह खोलकर ठीक से बोल नही पाती है। डॉक्टर ने कहा है पूरी तरह ठीक होने में समय लगेगा। कमसेकम तीन महीने आराम करने को कहा है। चंपा के घर पहुंचते हीं उनके बच्चों के चेहरे पर खुशियों की रौनक लौट आई।

माँ को सकुशल देखकर बच्चे फुले नही समा रहे थे। आसपास के देखने वालों की भीड़ मुकेश के घर पर लगी रहती है। ज्ञात हो कि तीन फरवरी की रात मुकेश के घर के बगल में शादी समारोह था, साथ ही सरस्वती पूजनोत्सव की तैयारियां भी जारी थी। घर के समीप ही जेरनेटर व बाजे बज रहे थे। चंपा घर के बाहर आंगन में खड़ी होकर शादी में हो रहे चहल पहल का नजारा ले रही थी। चंपा के पति ठेला चलाकर घर नही लौटा था। घर मे ससुर जोगी महतो आंगन में आग सेक रहा था। सौतेली सास मीरा देवी, देवर मनोज महतो, देवर अनुज महतो, पुत्र संतोष कुमार व पुत्री दीपा कुमारी सो रहे थे। बड़ा पुत्र सोनू कुमार बगल के सरस्वती पूजन स्थल पर तैयारी में लगे थे। इसी बीच घर के पीछे के रास्ते से दो की संख्या में आए नकाबपोश अपराधियों ने चंपा का मुंह दबाकर, उठाकर बगल के शौचालय के पीछे ले गए और धारदार हथियार से गला रेत दिया। वही घरवालों का आहट पाकर अपराधी मौके से भाग गए थे।

इधर झंडापुर ओपी पुलिस मामले की तह तक पहुंचने एवं घटना में संलिप्त अपराधियों को पकड़ने के लिए जोरशोर से जाँच में जुटी हुई है। हालांकि घटना के 12 दिन बाद भी पुलिस कुछ खास साक्ष्य हासिल नही की है, जबकि घटनास्थल से पुलिस को अबतक कुछ भी सुराग हाथ नही लगा है, फिर भी झंडापुर पुलिस अपराधियो तक पहुंचने की कड़े दावे कर रही है। दूसरी ओर घटना के बाद से चंपा के पति मुकेश महतो बहुत डरे सहमे हैं। मुकेश को किसी बात का डर सता रहा है, जिससे वह सदमे में है। अत्यंत भयवश किसी से कुछ कह नही पा रहा है। घर के सारे सदस्यों से पुलिस ने अलग अलग पूछताछ कर सबका बयान दर्ज कर अनुसन्धान कर रही है। बता दें कि घटना की शाम मुकेश महतो ठेला लेकर खगरिया जिले के भरतखंड गए हुए थे।

शाम करीब साढ़े सात बजे मुकेश के मोबाइल पर घर के बगल के ही एक व्यक्ति ने अज्ञात मोबाइल नम्बर से मुकेश को फ़ोन कर यह जानने का प्रयास किया कि वह कहाँ है? और आज घर कबतक लौटेगा या नही? यानी घटना में शामिल अपराधियों द्वारा पूर्व प्लानिंग के साथ इस कांड को अंजाम देने की आशंका प्रतीत हो रही है। मुकेश ने बताया की घटना की शाम फ़ोन करने वाला व्यक्ति बगल के ही एक दबंग व्यक्ति है जो पूर्व में भी आपराधिक मामलों में जेल भी जा चुका है। मुकेश ने यह भी बताया कि घटना के बाद वह व्यक्ति किसी न किसी बहाने से दो बार मेरे घर पर भी आया। जबकि हमलोग चंपा के इलाज में भागलपुर में थे।

उन्होंने अपने घर के कुछ सदस्यों का नाम भी पुलिस को बताया है। बता दें कि मुकेश के पिता जोगी महतो ने पहली पत्नी के मरणोपरांत दूसरा विवाह मीरा देवी से किया है। पहली पत्नी अरुणा देवी को एक पुत्र मुकेश महतो और एक पुत्री अनिता है। वही दूसरी पत्नी मीरा देवी को तीन पुत्र और तीन पुत्री है। सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि घटना के वक्त मुकेश के पिता जोगी महतो आंगन में ही आग सेंक रहे थे। यहां सोचने वाली बात है, कि कोई नींद में बैठे आग नही सेंक सकता है क्योंकि नींद आते ही वह सामने रखे जलती आग में लुढ़क सकता है।

फिर सवाल ये है कि दस बजे रात्रि में उनके सामने उनकी पुतोहु को आंगन से अपराधी उठा ले गए और उन्हें आहट भी नही हुआ। जबकि जोगी महतो घटनास्थल से दस मीटर की दूरी पर आग सेंक रहे थे। मामले में चंपा देवी के लिखित बयान पर झंडापुर ओपी में अज्ञात दो अपराधियों पर मामला दर्ज किया गया है। झंडापुर थानाध्यक्ष भूपेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस कई बिंदुओं पर अनुसंधान कर रही है, साथ ही पुलिस अपराधियों के बिल्कुल करीब पहुंच चुकी है, जल्द ही मामले का उद्भेदन और अपराधियो को गिरफ्तार किया जाएगा।