30-November-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

नवगछिया: बाढ़ से पूर्व जल संसाधन मंत्री ने कटावस्थल का किया निरीक्षण; 15 जून तक कटाव निरोधी कार्य पूरा नहीं करने वाले संवेदक पर दिया प्राथमिकी दर्ज कराने का निर्देश

Share This Post:

NAUGACHIA: जल संसाधन मंत्री संजय झा ने मंगलवार की दोपहर को इस्माइलपुर -बिंद टोली के बीच कटान स्थल का निरीक्षण विभाग के अधिकारियों के संग किया। निरीक्षण के दौरान कार्य की प्रगति अब तक मात्र 35% प्रतिशत होने की जानकारी मिलने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि हर हाल में 15 जून तक कटाव निरोधी कार्य गुणवत्तापूर्ण पूरा नहीं करने वाले ठेकेदारों पर प्राथमिकी दर्ज करा कर मुख्यालय को सूचित करने का निर्देश विभागीय अभियंताओं को दिया। बताते चलें कि पिछले वर्ष 15 अगस्त की दोपहर को डिमाहा गाँव के निकट स्पर संख्या दो व तीन के बीच मुख्य तटबंध पर कटान हो गया था। जिस कारण पूरा इलाका जलमग्न हो गया था।

इसके पूर्व उन्होंने कैंप कार्यालय में विभागीय अभियंताओं से जल संसाधन विभाग द्वारा कराये जा रहे विभिन्न स्परों व तटबंधों पर कटाव निरोधी कार्यों की जानकारी ली .उसके बाद स्पर संख्या छह का निरीक्षण कर डिमाहा गाँव के निकट कटान व जमीनदारी बांध का निरीक्षण करते हुए जहान्वी चौक के निकट निर्माणाधीन स्लूइस गेट का निरीक्षण किया. उन्होंने हर हाल में 15 जून तक सभी स्लूइस गेट का निर्माण पूरा करने का निर्देश तकनीकी विभाग के अभियंताओं को दिया. कैंप कार्यालय में सैदपुर के ग्रामीण अधिवक्ता मुकेश कुमार, प्रखंड जदयू अध्यक्ष साकेत बिहारी, मनोज कूमर वगैरह ने ब्रह्मोत्तर बांध के निर्माण व स्पर संख्या पाँच से लेकर सात तक तटबंध को मजबूत करने हेतु और अधिक कार्य करवाने की मांग की.

तिनटंगा करारी के पूर्व मुखिया गिरिधारी पासवान, पूर्व सरपंच शंभु यादव, पंचायत समिति सदस्य व सरपंच घनश्याम यादव स्पर संख्या नौ के आगे कार्य करवाने की मांग की ताकि तिनटंगा करारी को कटाव से बचाया जा सके। तिनटंगा दियारा के मुखिया गणेश प्रसाद मंडल ने कटाव की भयावहता को देखते हुए बडे पैमाने पर कटाव निरोधी कार्य करवाने की मांग की. वहीं ग्रामीणों ने स्पर संख्या छह के सामने से सात के सामने तक सोल कटिंग करवाने की मांग की.इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री ने कहा कि तटबंध का सीमांकन करवा कर तटबंध को चौडा करने का निर्देश दिया गया है तथा तटबंध को हर हाल में अतिक्रमण मुक्त रखने का निर्देश दिया गया है. तटबंध के भीतर पक्का निर्माण कार्य नहीं करने का निर्देश दिया गया है।