04-December-2022

Before Publish News

Before Publish News Covers The Latest And Trending News on Village, City, State, Country, Foreign, Politics, Education, Business,Technology And Many More

सावधान: इन स्मार्टवॉच-ट्रैकर में लग रही है FIRE, कई यूजर्स को दिया जिदंगीभर का जख्म; केस दर्ज

Share This Post:

TECHNOLOGY: स्मार्टवॉच और ट्रैकर्सआपके स्टाइल में चार चांद तो लगाते ही हैं, साथ ही फिटनेस पर भी पैनी नजर रखते हैं। अगर आप भी स्मार्टवॉच या ट्रैकर खरीदने का प्लान कर रहे हैं, तो थोड़ा सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि बीते कुछ दिनों में इनके जलने और ओवरहीट होने के कई मामले सामने आ चुके हैं।

वॉच और ट्रैकर बनाने वाली पॉपुलर कंपनी फिटबिट (Fitbit) ने बैटरी ज्यादा गर्म होने की शिकायत के बाद इस साल मार्च में अकेले यूएस में करीब 10 लाख फिटबिट आयोनिक फिटनेस ट्रैकर्स और दुनियाभर से करीब 6,93,000 यूनिट्स को रिकॉल किया। इसके अलावा, कंपनी ने यूएस में अपने यूजर्स को $299 (लगभग 22,670 रुपये) का रिफंड भी दिया। अब, एक मुकदमे का दावा है कि गूगल के स्वामित्व वाली वियरेबल कंपनी फिटबिट ने अपने यूजर्स की सुरक्षा के लिए पर्याप्त प्रयास नहीं किए। मुकदमा यह भी दावा करता है कि फिटबिट की सभी स्मार्टवॉच और फिटनेस ट्रैकर्स में बैटरी ओवरहीटिंग समस्या मौजूद है।

दावा- सभी फिटबिट स्मार्टवॉच-फिटनेस ट्रैकर्स में दोष
द वर्ज की एक रिपोर्ट के अनुसार, सभी फिटबिट स्मार्टवॉच और फिटनेस ट्रैकर्स में ये दोष मौजूद है, जिसमें बैटरी अधिक गर्म हो जाती है, जो बदले में जलने का कारण बनती है या आग का खतरा पैदा करती है। मुकदमे में फिटबिट पर घटनाओं की सूचना मिलने पर ‘कंज्यूमर हाइजीन’ पर दोष लगाने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया गया है।

कैलोरी की जगह स्कीन बर्न कर रही वॉच
मुकदमे में, दो वादी का तर्क है कि उपभोक्ता “कैलोरी बर्न करने के लिए और स्मार्टवॉच की सहायता से हेल्दी लाइफस्टाइल को सुरक्षित रूप से आगे बढ़ाने के लिए प्रोडक्ट खरीदते हैं ना कि अपनी स्कीन बर्न करने के लिए।” दोनों वादी यह भी दावा करते हैं कि उन दोनों ने वर्सा लाइनअप से डिवाइसेस खरीदे – एक वर्सा लाइट और एक वर्सा 2 – दोनों ही यूजर्स की कलाई पर जलने के निशान का कारण बने।

इसके अलावा, मुकदमा कई मामलों का हवाला देता है जिसमें फिटबिट के फिटनेस ट्रैकर्स और स्मार्टवॉच के यूजर्स ने इसी तरह की शिकायतें कीं। शिकायत में फिटबिट सेंस, फिटबिट वर्सा 3, फिटबिट ब्लेज, फिटबिट इंस्पायर और फिटबिट इंस्पायर 2 सहित इन डिवाइसेस का उपयोग करने वाले यूजर्स के जलने की तस्वीरें भी शामिल हैं। इसमें कई अकाउंट भी शामिल हैं जिनमें फिटबिट की स्मार्टवॉच और फिटनेस ट्रैकर्स के यूजर थे।

लोगों को नहीं मिल रहा समय से रिफंड
इसके अलावा, मुकदमा इस बात पर भी प्रकाश डालता है कि गूगल ने अपने Fitbit Ionic स्मार्टवॉच के लिए रिफंड प्रक्रिया को कैसे संभाला। मुकदमे का दावा है कि कंपनी कथित तौर पर उन रिफंड को ‘दबा’ रही है और बहुत सारे यूजर आठ सप्ताह के बाद भी रिफंड प्राप्त नहीं कर पाए हैं। कोर्ट के दस्तावेजों में फिटबिट सपोर्ट के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के जवाबों के कई स्क्रीनशॉट शामिल हैं, जिसमें ग्राहक लंबे इंतजार और अनरिस्पॉन्सिव सर्विस से निराश थे।

मुकदमा अमेरिका में यूजर्स को Fitbit डिवाइसेस के कारण हुए नुकसान के निवारण के लिए वर्ग कार्रवाई की स्थिति की मांग कर रहा है।